बुधवार, 9 दिसंबर 2009

पी.एम्.के हाथों में अमेरिका और रूस दोनों

एक कांग्रेसी
ओये झाल्लेया मुबारकां हसाडेसोणे पी.एम्.ने एक बार फ़िर जांचे परखे रूस से दोस्ती को और पक्का कर लिया हैअब तो परमार्हूँइंधन संवर्धन +नाभिकीय पुनाह्प्रसंस्करण के बावजूद बिना शर्त +बिना रुके मिलता रहेगा अब तारापुर सयंत्र वाले संकट की पुनरावर्ति नहीं होगी बल्कि रूस हसाडे मुल्क में पाँच परमारूंरिअक्टर भी लगाएगा एडमिरल गार्श्कोव [विक्रमादित्य ]विमानवाहक पोत भी मिल जाएगा हसाडे सोणे मंमोहने के एक हाथ में अमेरिका तो दूसरे में अब रूस भी होगा अब तो देश में विकास के पंख जोर से फरफरानेलगेंगे

झल्ला पानी बचाओ बिजली बचाओ

बाउजी गल तो आपकी बेशक वधाई वाली ही हैलेकिन यूं.एस.एस.आर.के विघ्ठन के बाद से रूस से आमद में रूसी [कुरे]डैंड्रफ भी आ रहे हैं इसीलिए फूंक फूंक कर कदम बढाना दानिशमंदी होगी

1 टिप्पणी:

  1. बढ़िया लिखा है आपने सही मुद्दे को लेकर! देखते हैं अब हमारे प्रधान मंत्री क्या करते हैं!

    उत्तर देंहटाएं