शनिवार, 26 दिसंबर 2009

कांग्रेस को किसकी नज़र लग गई

एक कांग्रेसी


ओये झाल्लेया ये क्या हो रहा है?हसाडी सोणी पार्टी को किसी की बुरी नज़र लग ही गई है तभी तो आए दिन कोई ना कोई पंगा होता ही रहता है झाड़खंड में अच्छी खासी सरकार बनते बनते रह गईखाने की थाली तो वहां हमने सजाई मगर खाने को आ गए भाजपाई आंध्र प्रदेश में अच्छे खासे [८४ साला ] नारायण दत्त तिवारी जी का अचानक स्वास्थ्य खराब हो गया और उन्हें राज्य पाल के पद से इस्तीफा देना पड़ गया और ये मीडिया रुचिका को छोड़ कर तिवारी जी जैसे सीनियर नेता के कपडे उतारने लग गए हैं

ओये ये[बुरी] नज़र उतारने का हे कोई उपाए

झल्ला पानी बचाओ +बिजली बचाओ

ओ भोले बादशाहों आप जी के तिवारी जी नारायण नहीं नर ही हैं अब उन्होंने जो नारायण की नक़ल करते हुए राज भवन में रासलीला रचाई उससे माया[राज्यपाल पद] और राम दोनों से ही हाथ धोना पड़ गया बकौल आपजीके उनकी तबियत और खराब[ऐसी हरकतों से स्वाभाविक]हो गयीलेकिन झाल्लेविचारानुसार आपजी की पार्टी को बीमार का इलाज़ करवाना चाहिए था उलटा आपने उन्हें बहार का रास्ता दिखा दिया
भाई मत भूलो की अब तो बुजुर्गों को घर पर ही उचित सम्मान दिलाने को मुहीम चल रही है
जहां तक नज़रेबद का सवाल है तो भाई जी राहुल गांधी की तरह सकारात्मक [पासिटिव] राजनीती का नज़र बट्टू बहुत जरूरी है

1 टिप्पणी:

  1. आपको और आपके परिवार को नए साल की हार्दिक शुभकामनायें!
    बहुत बढ़िया लिखा है आपने!

    उत्तर देंहटाएं