बुधवार, 4 जुलाई 2012

भारीभरकम कृषि मंत्री ने कई इफ और बट्स लगा कर बाज़ार को एक गलत सन्देश भी दे ही दिया है

                                                                              झल्ले दी गल्लां 
 एक कांग्रेसी
                  ओये  झल्लेया  देखा हसाड़े  हेवी  वेट  शरद पवार जी का कमाल ओये उन्होंने प्रेस कांफ्रेंस में खुल्लम खुल्ला   एलान कर दिया है कि  मानसून देर से ही सही पर  आ रहा है   अगर सूखा भी  पड़ता  है तो भी
बफर स्टाक भरा पडा है  सूखे की स्थिति से निबट लिया  जाएगा ओये अब घबराने की कोई गल नहीं है
झल्ला
                ओ मेरी सरकार आप जी के इस भारीभरकम  कृषि मंत्री ने कई इफ और बट्स लगा कर बाज़ार को एक गलत सन्देश भी दे ही दिया है ।बकौल नेता जी के [1]मानसून के आने में देरी हो गई है [2]बुआई   प्रभावित हुई है[[3] तेल++धान++दालों के उत्पादन पर प्रभाव पड़ सकता है  मगर बफर स्टाक 'प्राप्त है अगर राज्य चाहेंगे तो उन्हें मुहेय्या करवा दिया जाएगा ।इससे मंत्री जी के  चेहेते  बाज़ार को सन्देश मिल गया है
आप जी के सोणे  ते मन मोहने पी एम् +ऍफ़ एम् की डगर कठिन हो सकती है 

मंगलवार, 3 जुलाई 2012

पायलटों ने तो हड़ताल का रिकार्ड बना लिया अब मंत्री जी क्या रिकार्ड बनायेंगे

                                                                         झल्ले दी गल्लां 
एक कांग्रेसी 
               ओये झल्लेया  देखा हसाड़े  सोणे  ते मन मोहने पी एम्  के  वित् मंत्रालय का कार्यभार संभालते ही एयर इंडिया के पायलटों की हड़ताल ख़त्म किये जाने पर सहमति बन गई है अब तो एयर इंडिया का घाटा कम होवे ही होवे और विकास की गंगा बहे ही बहे
झल्ला 
                भोले बादशाहों बेशक हाई  कोर्ट के  आदेश से  400 से ज्यादा हडताली पायलटों ने 8 मई से चली आ रही अपनी  हड़ताल को वापस लेने पर राजा मंदी दिखा दी है लेकिन  सिविल एविअशन में दूसरी सबसे बड़ी हड़ताल होने का रिकार्ड  तो बन ही गया है । अब देखना है की आप जी के सिविल एविअशन मंत्री छोटे चौधरी अजित सिंह  अपनी पुराणी जिद पर अड़े रहेंगे या इस  रिकार्ड को छोटा करेंगे या
[1] बर्खास्त 101 पायलटों को बहाल करेंगे
[2]पायलटों की गिल्ड  को पुनः मान्यता  देकर पीछे हटने का  रिकार्ड बनायेंगे
[3]मार्केट में एयर इंडिया की साख दोबारा  बनायेंगे
[4]अतिरिक्त स्टाफ में कटौती करके सेवा में गुणवत्ता बढ़ाएंगे
[5]व्यापारिक प्रतिस्पर्धा में बडत  हासिल करेंगे
  

विधायक निधि से 20 लाख तक की गाडी खरीद सकेंगे माननीय

उत्तर प्रदेश की विधान सभा के अंतिम दिन आज युवा मुख्य मंत्री अखिलेश यादव ने जोर दार सियासी धमाका कर दिया विधायकों को अपनी विकास  निधि से   2000000 रुपयों तक गाडी खरीदने का प्रस्ताव उछाल दिया है अब बेशक देश में मानसून के नखरों से सूखे की स्थिति बनती  जा रही है मगर यूं पी के विधायकों के सूखे पर तो कुल निधि के 10%+ की ठंडी फुआरों के दिल फरेब झोंके आने लग  ही गए हैं ।जाहिर है ऐसे में  सूबे  की सभी समस्याएं पार्श्व में चले गई हैं\\2014 के चुनावों के मद्दे नज़र विपक्ष   ने इस फरेब में आने से इनकार कर दिया है मगर दबी जबान से कांग्रेस अपना गठबंधन धर्म जरूर  निभा रही है।
 यूं पी के विधायक अब नहीं रहेंगे बे_ कार 
    आज विधान सभा में अखिलेश यादव ने विधायक निधि से 10%  अर्थार्त बीस लाख रुपयों तक का खर्च विधायक के लिए वाहन खरीदका प्रस्ताव रखा  इसके स्वीकृत होने पर  एक अरब रुपयों  का खर्चा केवल[ एम् एल ऐ 403एम् एल ऐ++100 एम् एल सी ] के प्रयोग के लिए वाहनों पर ही खर्च हो जाएगा।|बिजली +पानी+सडकों के संकट से जूझ रहा प्रदेश बेरोजगारी भत्ता और लेपटोप वितरण के  दाईतव  से बंधा है \इसके अलावा लगभग 25 हज़ार करोड़ का कर्जा भी है ऐसे में 20 लाख की गाडी के   पीछे दलील कोई भी दी जाए मगर सी एम् ने इस एक तीर से जहां अपने विधायकों द्वारा लाल बत्ती के लिए बनाए जा रहे दबाब को कम कर लिया वही  दूसरे दलों के विधायकों की भी  सहानुभूति हासिल  करने के साथ उनपर नकेल भी कस  दी गई है।अब कोई विधायक दूरस्थ इलाके में विकास के लिए  ना जा पाने की शिकायत नहीं कर पायेगा ।आलोचना टी  वी चेनलों पर शुरू होते ही सरकार के स्तम्भ आजम खान ने बचाव की कमान संभालते हुए आवश्यकतानुसार ही खर्च  को जरुरी बता कर बात सम्भालने का प्रयास किया गौर तलब है की इस सभा में लगभग 300 सदस्य करोडपति हैं  ।बेशक विपक्ष ने गाडी नहीं लेने की बात कही फिर भी 104 विधायक तो  जरुरत मंद +गरीब  बताये  ही गए हैं।
    मुख्य मंत्री ने  बचाव की दलील देते हुए सवाल दागा कि  जब सरकार से तेल +किराया++और भत्ते दिए जा सकते हैं तो गाडी क्यूं नहीं ।इन जवान तेवरों को देखते हुए लगता है कि  सूबे में समाजवाद की परिभाषा जरूर बदलने जा रही है इसलिए क़र्ज़ में डूबे सूबे में 20 लाख की लग्जरी गाडी का यह  प्रस्ताव पास हो निम्न बातों का  स्पष्टीकरण  जरुरी है
[1]यह वाहन पांच साल के लिए दिए जाने हैं। यह पांच साल खरीद की तिथि से काउंट किये जायेंगे या 5 साल के एक टेन्योर  के लिए होंगे।|

 कांग्रेस और सपा का केंद्र में गठबंधन  है कांग्रेस के लिए  3500000 के टायलेट्स  तो सपा के लिए 2000000 की गाडी जरुरी है । लगता है की  समाज वाद की परिभाषा बदल रही है???

[2]पांच साल बाद मार्केट वेल्यू दे कर विधायक गाडी खरीद सकेंगे।सरकारी डेप्रिशिअशन [10% प्रतिवर्ष]]को आधार बनाया जाएगा  अब सवाल यह उठता है की कोई विधायक अगर आज गरीब है तो महज़ पांच सालों में 2000000 रुपयों की गाडी खरीदने  और उसके रखरखाव को सक्षम हो पायेगा यदि हाँ तो कैसे???
[3]बताया जा रहा है की कई विधायक गरीब होने के कारण अपने छेत्र  का समूचा दौरा नहीं कर पाते इसीलिए वाहन उनके लिए जरुरी है अगर ऐसा है  तो  गाडी के लिए पेट्रोल और ड्राइवर की व्यवस्था कैसे होगी। वाहन की मरम्मत या रखरखाव  किस मद से होगी ।और मुख्य मंत्री जी क्या इसके लिए 2000000 की गाड़ी ही जरूरी है????
     भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष डाक्टर लक्ष्मी कान्त वाजपई अब तक स्कूटर की सवारी ही कर रहे है मुख्यमंत्री की गाडी की सौगात से उम्मीद बंधी थे की अब मेरठ के विधायक भी 2000000 की गाडी की सवारी करके शहर का विकास करायेंगे मगर अफ़सोस उनकी पार्टी ने भी सपा सरकार के 100 दिन पूरे होने पर बंटी  रेवड़ी [गाडिओं ]के माया जाल में फ़सने  से इनकार कर दिया है भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष अब फिर से स्कूटर पर ही छेत्र  का विकास करायेंगे।|   

    

सोमवार, 2 जुलाई 2012

सर्वोच्च सिंहाषण मिल जाए चुनावी वैतरणी पार हो जाए

                                                                              झल्ले दी गल्लाँ 
एक कांग्रेसी 
                ओये झल्लेया  पी ऐ संगमा को ये क्या होगया है?ओये संगमा ने भाजपा के संग मिल कर  हसाड़े  प्रणव मुखर्जी के खिलाफ उलटे सीधे आरोप लगाने शुरू कर दिए हैं।अब कह रहे हैं की प्रणव के पास लाभ के
पद[आई एस आई]हैं इसीलिए उन्हें प्रेसिडेंट  के इलेक्शन  से बाहर कर दिया जाना चाहिए ।हमारी  दो शतकों पुरानी पार्टी है क्या हम ऐसी  छोटी  गलती कर सकते हैं भाई प्रणव मुखर्जी ने तो 20=06=2012 को ही आई एस आई [पकिस्तान वाली नहीं]सांख्यकी से इस्तीफा दे दिया था और वितमंत्री का पद भी छोड़ चुके हैं ऐसे में तो ये आरोप बेमतलब हैं \
झल्ला 
                भोले बादशाहों जब   बुढापे  में चुनावी पानी में उतरे हैं  तो हारी हुई बाज़ी जीतने के लिए  इधर उधर हाथ मारेंगे ही क्या पता इसी से सर्वोच्च  सिंहाषण  मिल जाए चुनावी  वैतरणी पार हो जाए \आपकी पार्टी जांच बैठाने में माहिर है बैठा दो जांच हो जाने दो दूध का दूध और पानी का पानी\इस आरोप का  खंडन इतनी जल्दी आया है  की कहीं ना कहीं काले का शक पैदा हो ही जाता है। वैसे वितमंत्री रहते हुए जितना  राजनितिक लाभ कमा लिया उतना आई एस आई में कहा??    

शनिवार, 30 जून 2012

कलाम को दुबारा राष्ट्रपति नहीं बनने देने और प्रणव मुखर्जी को राष्ट्रपति बनाने में कोई तो परदे दारी है

                                                                            झल्ले दी गल्लां
 एक कांग्रेसी 
                  ओये झल्लेया  देखा हसाडी  श्रीमति  सोनिया गांधी का कमाल । 2004 में  सारे   संवैधानिक  अधिकार होते हुए भी  प्रधान मंत्री के पद का त्याग करके पेश कर दी एक अनूठी मिसाल।डाक्टर मन मोहन सिंह को  सत्ता सौंप कर नहीं  दिखाया  कोई मलाल।  तत्कालीन राष्ट्रपति  ऐ पी जे अब्दुल कलाम ने भी अब अपनी किताब में  इसकी पुष्ठी करके कर दिया धमाल  ।
   सोणे  ते मन मोहने पी एम्  चलेंगे सालों साल ।ओये अब सोनिया जी को विदेशी बताने वालों का कौन होगा हवाल । हुन  ते  सोनिया जी को दिल से  मदर इंडिया कह ही  डाल ।
झल्ला 
                    ओ सरकारे आली जी बेशक आपके लिए आज भांगड़ा डालने का दिन है ।झप्पी शप्पी  पाओ और खुशियाँ मनाओ।सुपर प्राईम मिनिस्टर से अब सोनिया जी मदर इंडिया बना दी गई है लेकिन  एक बात बताओ अगर ऐ पी जे अब्दुल कलाम  ने आप जी की सोनिया जी को प्रधान मंत्री बनने से नहीं रोका तो अब आप लोगों ने उन्हें दुबारा राष्ट्रपति  बनने  से क्यों  खवाह्मखः रोक दिया?बेशक  राष्ट्रपति के लिए प्रणव मुखर्जी काबिल होंगे और उन्होंने प्रधान मंत्री की रेस से इस तरह बाहर किये जाने पर कोई अफ़सोस भी जाहिर नहीं  किया है लेकिन झल्ली गल ये है की कलाम को दुबारा राष्ट्रपति  नहीं बनने  देने और प्रणव मुखर्जी को राष्ट्रपति बनाने में कोई तो परदेदारी  है  राजदारी है ।

शुक्रवार, 29 जून 2012

पी एम् को गीदड़सिंगी  मिल गई है क्या ?
     झल्ले दी गलां 
                                  एक कांग्रेसी
                                                   ओये झल्लेया  मुबारकां ओये हसाड़े  सोणे  ते मन मोहने पी एम् ने वित्
                                                   मंत्रालय   संभाल  लिया है इसका स्वागत शेयर बाज़ार ने भी कर दिया
                                                  हैइलेक्ट्रोनिक्स  चेनल्स के नीचे चलने वाली पट्टी में सारे बाज़ार के रेट्स 
                                                     ख़ुशी के हरे रंग में ऊपर की तरफ दिखाई दिए  
                                                   बाज़ार  के सूचकांक  ने 2% अधिक  बडत लेकर इसका समर्थन कर दिया है
                                                   मार्गन स्टेनली ने भी हमारी रेटिंग को  अंडर वेट  से निकाल कर इक्कवल
                                                   वेट कर दिया है ।ओये अब आर्थिक गिरावट के दिन गए अब चिंतित होने
                                                   की जरुरत नहीं है अब तो विकास को पंख लगे ही लगे। 
                                  झल्ला       
                                                   खैर मुबारक जी सुनने में तो वाकई अच्छा लग रहा है बीतें वर्षों में  देश की 
                                                    इकोनोमिक्स को भम्भड़ भूसे में  डाले  रखने  वाली घरेड तो निकल ही गई   
                                                    है अब कुछ अच्छे की उम्मीद की जा  सकती  है  लेकिन  एक बात  बताओ
                                                        की लगातार गिरावट के बाद अब एक दम से सुधारों  का दावा कर रहे हो  लगता है की  पी एम्  को कोई  गीदड  सिंगी मिल गई है ?अगर ऐसा हे तो अब देश में 
                                                     सुधारों का लाभ  निचले स्तर पर भी  मिलने लगेगा ?और इस मार्गन 
                                                    स्टेनली को छोड़ो  क्योंकि इसने बीती सदी   में शेयर निकाले थे उनका 
                                                    अभी तक राम ही मालिक है ।इसीलिए जब तक सुधारों का या विकास 
                                                    का लाभ निचले स्तर तक  नहीं  पहुंचता तब तक  2014 के   इलेक्शन 
                                                    दूर ही समझो   
                                                            
 आदरणीयों  के चुनावों में सब कुछ  ठीक  है                                                                                              झल्ले दी गलां
एक सामान्य नागरिक    
                                 ओये  झल्लेया ये क्या हो रहा है ?हैं छोटे  से छोटे  चुना में भी सख्त  आचार संहिता होती      है मगर   राष्ट्रपति के चुनावों में कोई  आचार संहिता नहीं है जिसके मन जो आ रहा है जैसा आ रहा है कर रहा है ऐसा कैसा चलेगा 
झल्ला 
                                ओ भोले बादशाहों आपने सुना  नहीं  है कि समरथ को नहीं दोष गुसाईं तभी तो माननीयों को  28 राज्यों+2 युनियन  टेरिटोरी + संसद  में से कहीं भी वोट डालने का अधिकार मिल गया है ।जहां चाहे जैसे चाहे प्रचार कर सकते हैं ।सरकारी  सुविधाओं  के दुरूपयोग होने पर किसी की भी नज़र  नहीं  रहेगी दल बदल  पार्टी  बदल+संघ बदल पर कोई रोक नहीं होगी  यानि   आदरणीयों  के चुनावों में सब कुछ  ठीक  है 

मंगलवार, 26 जून 2012

काश्मीर में अनावश्यक इमरजेंसी से पीक सीज़न में बिजनेस पर प्रहार

 [1]भारत में कहीं  स्वर्ग है तो काश्मीर है काश्मीर है कश्मीर है 

[2] हड़ताल के बाद  सूनसान  डल  लेक  

[3]पीक  सीज़न में बिजनेस पर प्रहार 

[4] एअरपोर्ट पर  काश्मीर छोड़ने  वालों की   लम्बी  होती कतारें 

[5] एअरपोर्ट के अन्दर सामन क्लीयर  कराने वालों   में मारा मारी 
बीती सदी के सातवें दशक में सोने  की चिड़िया नामक   देश ने  इमरजेंसी का दंश झेला था मगर आज  भारत के स्वर्ग  काश्मीर  पर   भी  पुनः अनावश्यक बंद थोप कर लोक तंत्र में  अलोकतांत्रिक   पद्धति की काली किताब में एक और काला अध्याय लिख दिया गया है फर्क सिर्फ इतना है की पहले  शासक ने  खुद के सर्वाइवल  के लिए  इमरजेंसी  का सहारा लिया था तो अब शासित ने अलगाव वादी ताकतों को मज़बूत  करने  के लिए कश्मीर के पीक  सीज़न में बंद का एलान कर दिया|
   बीते दिन श्रीनगर  के  डाउन टाउन इलाके में स्थित एतिहासिक  लकड़ी की इमारत  जियारत शरीफ  में सुबह की नमाज़ के बाद आग लग गई |अभी इसके कारणों को जांच चल रही है कि अलगाव वादी ताकतों ने सी आर पी ऍफ़ को निशाने पर रख लिया |विरोध हुआ पथराव हुआ इसके जवाब में लाठी और आंसू गैस चली |
  सी आर पी ऍफ़  के विरोध और पीड़ितों के समर्थन में तत्काल बाज़ार बंद करा दिए गए और आज पूरे काश्मीर बंद का एलान कर दिया गया | एयर पोर्ट के हालत देख कर  लगा की आज पूरा काश्मीर खाली हो जाएगा|
आज सुबह डाउन टाउन के ग्रामीण युवा सड़कों पर आ गए | सूत्रों की माने तो जिस प्रकार मनरेगा के अंतर्गत युवाओं को गावों में ही रोज़गार देने की यौजना चलाई जा रही  है ठीक उसी तर्ज़ पर अलगाव वादी   वहां के ग्रामीणों को पत्थर चलाने और विरोध करने के  लिए 500/= दिए जा रहे है  
     आज की इस  घटना के  पीछे दो कारण बताये जा रहे हैं [१]अबू हमजा की गिरफ्तारी [२] बर्फानी बाबा अमर नाथ यात्रा इस दोनों कारणों से अपनी उपस्थिति और मजबूती का प्रदर्शन जरूरी था   काश्मीर में अनावश्यक इमरजेंसी

बुधवार, 20 जून 2012

वरिष्ठ लाल कृषण आडवानी को छोड़ कर कनिष्क नरेन्द्र मोदी को पी एम् इन वेटिंग बना दिया

                                                                                                                                            झल्ले दी गल्लां 
एक भाजपाई 
                    ओये झल्लेया ये  जे  डी यूं  वालों की मति फिर गई है क्या ??आये दिन कोई न कोई उलटा सीधा ब्यान देकर एन डी ऐ की एकता पर  प्रशन चिन्ह लगा रहे हैं \
पहले तो सांसद शिवानन्द तिवारी  ही  सत्ता रूड़  यूं पी ऐ के सुर में सुर मिला कर  राष्ट्रपति पद के लिए कांग्रेसी प्रणव मुखर्जी के समर्थन  में  [यहाँ तक की] ऐ पी जे कलाम तक को सपोर्ट 
नहीं करने को जोर डाल रहे थे अब उनके मुख्यमंत्री नितीश कुमार भी खुल कर नरेन्द्र  मोदी के खिलाफ ताल ठोक कर मैदान में आ गए हैं| 
२००२ में गुजरात के दंगों के समय  हमारे साथी रहे  फिर २००९ में भी  घटक रहे अब जा कर उन्हें धरमनिरपेक्षता की  याद  आ रही है सफलतम  मुख्यमंत्री  नरेन्द्र मोदी  भी उन्हें साम्प्रदाईक नज़र आने लगा है|
     हमारे आर आर एस प्रमुख मोहन भागवत ने तो यहाँ तक कह दिया है कि  हिंदुत्व वादी क्यूं नहीं बन सकता भारत का पी एम् 
   हमारे  नेता बलबीर पुंज ने भी कह दिया है की   हमें किसी से धर्म  निरपेक्षता का सर्टिफिकेट  नहीं लेना है 
झल्ला
क्या में अभी भी पी एम् इन वेटिंग हूँ ??
             ओ मेरे भोले बादशाहों दरअसल ये तो सियासी  खेल है|अब आप लोगों ने वरिष्ठ लाल कृषण आडवानी को छोड़ कर कनिष्क  नरेन्द्र मोदी को पी एम् इन वेटिंग बना दिया 
क्या सोचा था की एन डी के के घटक दल खुश होंगे शाबाशी देंगे क्यूं??पड़ गई ना घरेड???जे डी यूं वाले तो बरसों से एन डी ऐ  से पीछा छुड़ाना चाह रहे थे  अब मौका मिल गया है 
अब अलग होने से फ़ायदा ही फ़ायदा हैलेकिन चारा फेमस  लालू ब्रिगेड और  मंडल कमीशन  फेम राम विलास पासवान  ने भी अब नितीश कुमार को अवसरवादी+धोखे बाज़ कह कर  घेरना शुरू कर दिया है ।लेकिन इस सब के बावजूद नितीश & कम्पनी को तो अपना हित ही साधना है 
[१]पी एम् के लिए  मोदी को पछाड़ कर  अपनी   उम्मीदवारी  जग  जाहिर की जा सकेगी| 
[२]बिहार जैसे पिछड़े राज्य के लिए कांग्रेसी  केंद्र सरकार  पर डोरे डाले जा सकेंगे|
[3]बिहार में लालू प्रसाद के खिलाफ मुस्लिम वोटों को एक जुट किया जा सकेगा \

मंगलवार, 19 जून 2012

सोणा मनमोहना पी एम् बेशक घर में मूंगफली खाता हो बाहर तो डकार बादाम के ही लेगा

                                                                                     झल्ले दी गल्ला
एक विपक्षी
                ओये झल्लेया  ये क्या हो रहा है ओये इस  सरकार  की मति मारी गई है क्या??
                 एक तरफ ये विकसित देश स्टेंडर्ड  & पूअर्स  और फिच   नामक अपनी जेबी
                संस्थाओं  के माध्यम  से हमारे सोणे  मुल्क  की सोणी साख   को गिराने  में लगे  हैं
               [1] एक हमारी साख को बी बी बी बता कर हसाड़ा  मखौल उड़ाता है तो दूसरा
                [2] रेटिंग को गिरा कर  खुशहाल अर्थव्यवस्था के प्रति अविश्वास पैदा कर रहा है और
                इसके बदले  हसाड़े  पी एम्  डाक्टर मन मोहन सिंह ने वहां के डूबते देशों को 
               बेल आउट पैकेज अब यूरो संकट से हमारा रुपय्या नीचे जा रहा है संकट हमारे सर पर भी है में 55000 करोड़  रुपयों के  10  अरब  डालर  देने का आश्वासन
               दे दिया है । ओये इतने में तो  हसाड़े  मुल्क में 10  साल तक टेक्स  होलीडे  मिल जाता 
              ओये ये तो वोही बात हो गई की घर में नहीं दाने अम्मा माफ़ करना
               पी एम् चले भुनाने 
झल्ला 
             ओ बाऊ जी आप जी को ये पता नहीं है की खानदानी रईस लोग बेशक घर में मूंगफली 
             खाते हों मगर बाहर  डकार तो बादाम के ही लेते है और हसाड़े  सोणे  ते मन मोहने पी एम् 
            उस देश को रिप्रेजेंट  कर रहे है जिसे  कभी  सोने की चिड़िया कहा जाता थाअब वोह दिन
            हवा हुए जब हमारा  पी एम्   भीख  का  कटौरा  लिए घूमता था अब तो सीधा सादा बिजनेस
           है यूरो देशो के संघ के टूटने से हमारे देश पर भी आर्थिक संकट आयेगा ।आप जी की याद
           कराने को यह बताना भी जरूरी है की यूं एस एस आर के टूटने पर सबसे ज्यादा  हमारे 
          व्यापारिओं को ही  नुक्सान  हुआ था अब फिर यूरो संकट से हमारा रुपया  भी  गिर रहा है 
         इसीलिए  यूरो  संकट  से हमारे सर पर भी संकट आ सकता है 
            अब क्यूंकि  यूरो ज़ोन  को  आर्थिक संकट से उबरने के लिए जी 20 समूह के देश 430
          अरब डालर  जुटा रहे है उसमे हमारा कन्त्रिबियुशन  ऊंट के मुह में जीरा है 
          और माननीय साख के लिए तो कुछ भी करेगा  
            सोणा  मनमोहना पी एम् बेशक घर में मूंगफली खाता हो बाहर तो डकार  बादाम  के ही लेगा 

रविवार, 17 जून 2012

भापा ने दादा के लिए डाडा से समर्थन माँगा

                                                                झल्ले दी गल्ला 




एक भाजपाई                                                                                                 
      ओये झल्लेया ये क्या हो रहा है ? ओये  खानदानी विपक्षी कांग्रेसी दादा प्रणव मुखर्जी  के लिए भापा  डाक्टर मनमोहन सिंह ने बिना कुछ  लिए दिए  ही  हसाड़े   डाडा  लाल कृषण आडवानी  से  समर्थन मांग लिया है हुन  हमारा  क्या होगा???
झल्ला 
       ओ भोले बाशाहो प्रणव मुखर्जी की उग्र विरोधी ममता बनर्जी भी अब उनकी बहन बन गई है+कलाम साहब का कुछ निश्चित नहीं  है +
लगता है की आपकी एन डी ऐ के  बिहार और पंजाब का अन्दर खाने  समझौता  हो चूका है इसीलिए ये लोग अब प्रणव का अनावश्यक विरोध नहीं  चाहते  +
     राम  जेठमलाणी 'पर दाव लगाना बेवकूफी होगा
     चेन्नई +उड़ीसा ने ही पी ऐ संगमा का समर्थन किया है सो उनको मनाया जा सकता है 
     अब  जब सारे समीकरण आ'पके विरोधी के पक्ष में हैं तो ऐसे में हार का तमगा गले में डालना कोई दानिश मंदी नहीं  होगा 
 

मेरठ की समस्यायों की जानकारी नहीं निदान की बात कर रहे हैं|

में रठ की समस्यायों की  जानकारी  तो है  नहीं इन्हें तत्काल दूर करने का  सभी दलों का दावा 
 आज कल मेरठ   निगम  के लिए चुनावी समर  में ताल थोक  कर कूदे महारथी  अपना सीना ठोक कर मेरठ को बहिश्त+स्वर्ग+चमन+विकसित  बनाने के दावे करने में लगे हैं |
 मुह बाए खडी मेरठ की समस्याओं को दूर करने और विकास की गंगा बहाने की बात की जा रही है |ये बातें 80 पार्षदों के लिए 900+ प्रत्याशी  और मेयर के लिए 5 मुख्य  प्रत्याशी कर रहे है|इनमे से अधिकाँश ऐसे प्रत्याशी हैं जो सांप पकड़ने का मन्त्र नहीं जानते और बिच्छू को पकड़ने  का आश्वासन दे रहे हैं |अर्थार्त समस्यायों की जानकारी तो ही नहीं इनके तत्काल निदान की बात कर रहे हैं|
        भाजपा और कांग्रेस के बाद अब सपा भी खुल कर मैदान में हैं और समस्याओं के निदान करने का दावा कर रहे हैं।बसपा अभी  विधायकी के चुनावों में मिली हार से उबरी नहीं है ।इस लिए खुल कर सामने नहीं आ रही है मगर इस दल के प्रतिनिधि भी मैदान में हैं।बेसिक  शिक्षा और चिकित्सा की समस्या तो है ही ईनके अलावा भी अनेकों समस्याएं मेरठ को मिटाने पर तुली हैं।
ये सभी  सारी समस्यायों को दूर करने के दावे कर रहे हैं।अब 20% प्रत्याशी निरक्षर और इतने ही मेट्रिक  भी नहीं है इनलोगों की यह दलील होती है की जब अंगूठा छाप  देश चला सकते हैं तो हम निगम क्यूं   नहीं  चला सकते। यह कोई नहें बता रहा की कैसे समस्याएं दूर होंगी \क्या इनके पास कोई गीदड़ सिंगी   है या अलादीन का जादुई चिराग है  ।खैर मेरे विचार में यहाँ विचारणीय निम्न समस्याएं है उनका निदान मेरे हिसाब से उनके सामने है ।अब इन्हें कैसे दूर किया जायेगा यह तो प्रत्याशी बता सकते हैं।
[१] पूरे देश की भांति मेरठ में भी रिश्वत का घुन लगा हुआ है|यहाँ जन्म प्रमाण पत्र से लेकर छेत्र की सफाई  और भवन निर्माण तक में लेन देन अब टेबल के नीचे नहीं बल्कि टेबल के ऊपर 
 होने लगा है| देश के दक्षिण की एक पालिका में ऐसे ही जन्म प्रमाण पत्र के लिए जब अनावश्यक देरी की गई तो पीड़ित ने सीधे विभाग के नाम ही रिश्वत के १००/=का ड्राफ्ट बनवा कर भेज दिया 
तब जाकर वहां हंगामा हुआ और अधिकारी अमला चेता |हमारा मेरठ भी संक्रमण से अछूता नहीं है|यहाँ आये दिन ऐसी शिकायतें आती रहती है और प्रशासन इम्म्युन[असंक्रम्य्ह] हो चुका है|
निदान
  हर समस्या  के लिए समय निर्धारित करके  पारदर्शिता लानी चाहिए इसके लिए हर काम को वेब साईट पर लाना होगा|
[२]अनाधिकृत कालोनियां 
    मेरठ में आये दिन आउटर मेरठ के अलावा मेरठ के अन्दर भी इल्लीगल इम्मिग्रेंट्स  तक दिखाई देते हैं | इससे इनका शोषण तो होता ही है साथ ही गैर कानूनी गतिविधिओं को भी गति मिलती है\ 
निदान 
     इस विषय में वोट बैंक की भूख  सभी राजनितिक दलों में है और इसके लिए समस्या के निदान के लिए   अपनी आँखें मूँद लेते हैं।इससे समस्या का निदान तो होता नहीं हाँ छोटी बिल्ली बड़े खतरनाक बिल्ले का रूप  ले लेती है।क्यूं नहीं इनसब को कानूनी जामा पहनाया जा सकता इनकी पहचान करा कर पोलिस वेरिफिकेशन करवा कर इन्हें मुख्यधारा में लाया जा सकता।अब तो अमेरिका में बराक ओबामा तक ने अपने   वोटर्स  को लुभाने के लिए वहां के इल्लीगल इम्मिग्रेंट्स  को वर्क  परमिट तक देने की बात कह दी है। यहाँ भी यह मर्ज़ इतना बढ  गया है की इसे ही दवा बनाना पडेगा सो हमारे यहाँ भी इसे नियमित   करके   फंड्स   क्रिएट  किये जा सकते है  
[3]असमान विकास 
निदान  
   मेरठ के पोश कलोनिओं की आज तो सफाई =सड़क+नाली+पानी  आदि की जो नारकीय स्थिति है उसे देख कर मलीन बस्तिओं की हालात समझी जा सकती है मुझे याद है की एक बार  चेयर मेन अंसारी ने इससे पल्ला झाड़ते हुए कहा था की क्या सारा बजट यहीं खत्म कर दिया जाये ।कमोबेश वोही इस्थिति आज भी है ।
   छेत्र वार  बजट का आवंटन किया जाना चाहिए और सभासदों के माध्यम से  आवश्यक कार्य करने चाहिए
 इसे भी वेब साईट  पर होना चाहिए।
[4]विभागों में सामंजस्य का अभाव कभी कभार सड़क बन भी जाये तो कभी केबल वाले तो  कभी पानी वाले अब तो गैस वाले भी सड़को को काटने लग गए हैं ।बेशक हर विभाग का अपना अपना बजट होता है मगर आता तो हमारी जेबों से ही है यदि में  भूलता नहीं तो सांसद ने संसद में भी यह सवाल उठाया था मगर वोही सांसद अपने इस  छेत्र  में कोई दबाब नहीं बना सके नतीजतन यत्र तत्र  सर्वत्र भद्दे द्रश्य ही नज़र आते हैं।
निदान 
  उच्च स्तर पर सभी प्रभावी विभागों से पूरे वर्ष के कार्यक्रम की वरीयता ली जानी चाहिए और उसके हिसाब से  कार्य में सामजस्य बैठाना चाहिए।इसकी अवहेलना करने वालों को दण्डित भी किया जानाचाहिए ।अक्सर देखा जता है की वर्ष के अंतिम माहों में ही कार्य समापन कराया जाता है इसे चेक किया जाना चाहिए और पूरे वर्ष का कर्यक्रम होना चाहिए\
[5]कालोनिओं में पार्कों की व्यवस्था  अव्यवस्था में तब्दील हो चुकी है ।अतिक्रमण का शिकार अधिकाँश पार्क में  जानवरों की सैरगाह ही हैं डेरियां  हैं।
निदान 
     बिना किसी  भेद  भाव के पार्कों को मुक्त करवा कर उनका रखरखाव कराना होगा।
[6]निगम को खाली पड़ी जमीन का और   जमीन के अतिक्रमण का  कोई हिसाब नहीं
निदान 
    जमीन का उचित इस्तेमाल किया जाना होगा अगर जरुरी हो तो उसे नीलाम करवा कर जनहित कार्यों के लिए फंड्स  की व्यवस्था की जा सकती है।
[7]टेक्स  निर्धारण और उसके कलेक्शन की कोई पारदर्शिता नहीं है 
 निदान 
   अगर स्टाफ की  कमी है और अगर जरुरी समझा जाये तो आउट सोर्सिंग से यह कार्य  नियमित रूप से  कराया जा सकता है।
[8] शासन को बजट  भेजते  समय सभी दलों से  छेत्र  विशिष्ट नागरिकों  से संपर्क या सलाह नहीं ली जाती
निदान 
   पर्याप्त  बजट बना कर उसके प्राप्ति के लिए भी प्रयास करने होंगे।इसके लिए निरंतर दबाब बनाना होगा।[9]एतिहासिक नगरी को पर्यावरण के नक़्शे में पर्याप्त जगह नहीं है\
निदान
   चौधरी अजित सिंह ने अपने पूर्व के कार्यकाल में मेरठ को  पर्यावरण के नक़्शे पर लाने के प्रयास किये थेअब क्यूंकि अजित सिंह पुनः केन्द्रीय सत्ता में है सो  अब पुनः उस विषय में दबाब बनाया जा सकता है
[10] मेरठ में स्वच्छ जल की समस्या है 
निदान
   गंगा जल को मेरठ  लाने की कवायद को गति देनी होगी

   

शुक्रवार, 15 जून 2012

राष्ट्रपति भवन में बिछेगा हसाड़े प्रणव मुखर्जी का ही रुमाल

एक कांग्रेसी                                                                                        झल्ले दी गलां 
     ओये  झल्लैया देखा हसाडी पार्टी दा कमाल |
    मुलायम से ममता हो गई बेहाल |
    यूं पी ऐ की मीटिंग का  न्यौता  
    ना पा  कर छोड़ छाड़ दिल्ली की 
  गलियाँ |लौट गई अपने  सोणे  बंगाल |
ओये अब तो राष्ट्रपति भवन  में  बिछेगा  हसाड़े  प्रणव मुखर्जी का ही रुमाल |हुन तो वित्त मंत्रालय की  पूरी कमान होगी हसाड़े [ पिछड़े] आर्थिक महारथी मोंटेक सिंह अहलुवालिया  के हाथ \क्यों ठीक  है ना ठीक ???
झल्ला 
     हाँ जी खैर मुबारक जी  कहा भी गया है की ज्यादा रसोइये डिश की ऐसी की तैसी कर देते हैं।आपके मंत्रालय में इतने सारे आर्थिक महारथी होने से रुपया इतना गिर रहा है की   बोरों में पडा  सड  रहा हैस्विस बैंको में पडा  सुकड़  रहा है ।
  अब कम से कम एक महारथी  तो  रास्ते  से कम होगा । हसाड़े  सोणे  ते   मन मोहने   पी एम्  का काम  भी आसान होगा और अगर मोंटेक सिंह का  प्रोमोशन हो जाता है तो   हर मंत्रालय में विभाग में कार्यालय में ३५०००० लाख के टायलेट्स का आनंद सर्व जन द्वारा  लिया जा सकेगा|

सोमवार, 11 जून 2012

मेयर मेरठ का चुनाव नहीं आसान बस इतना समझ लीजे असंतुष्टों का दरिया है और डूब कर जाना है

बीजेपी के वरिष्ठ नेता एक्स पी एम् इन वेटिंग लाल कृषण आडवानी ने कुछ समय पहले अपने ब्लॉग के माध्यम से पार्टी के प्रति  आई उदासीनता से उपजी  शिथिलता के प्रति चेतावनी दी थी लगता है उससे सबक लेकर आज भाजपाइयों ने अपनी पहली ही सभा में असंतुष्टों को महत्त्व दिया और उन्हें साथ लेकर  निकाय चुनावों में विजय पथ पर  मार्च करने का आह्वाहन किया।
    मेयर प्रत्याशी हरी कान्त अहलुवालिया ने आज मेरठ शहर के रामा प्लाज़ा में अपने चुनाव कार्यालय का उदघाटन कराया।इस अवसर पर भाजपाई राजनीति में धुर  प्रतिद्वंदी मोहन लाल कपूर और डॉ लक्ष्मी कान्त वाजपई [अब प्रदेश अध्यक्ष]एक साथ एक ही मंच 'पर थे ।इस  उद्घातनोत्स्व  पर पार्टी की सभा का भी आयोजन कर लिया गया जिसमे सांसद  राजेन्द्र  अग्रवाल+शकुन्तला कौशिक+अमित अग्रवाल+हरिकांत के  प्रतिद्वंदी + धर्मवीर  नारंग +मंगल सैन आदि मंचासीन रहे।
[2]सभा स्थल  सड़े अठारह बजे 

[1] सभा स्थल  पौने अठारह   बजे 

[3]प्रदेश अध्यक्ष डाक्टर वाजपई  कार्यकर्ताओं को जीत का  नुक्सा  देते हुए 
  इस उद्घात्नोत्सव +सभा  में प्रतियाशिओं के साथ साथ उनके प्रतिद्वंदी भी नदारद रहे जिससे आडवानी की चेतावनी  को साफ़ देखा जा सकता था।  शाम  पांच बजे का समय देकर  पौने सात  बजे  कार्यक्रम चालू किया गया  पांच  बजे सभा स्थल पर कडाके की धुप थी इसीलिए सारी कुर्सियां खाली और जनता इधर उधर   छावं  तलाशती नजर आई। 6.40  बजे  प्रदेश अध्यक्ष के आने पर मंच सजाया गया ।इस दौरान अनेक उत्साही प्रत्याशी जुलूस की शकल में पहुंचते रहे भीड़ की बात की जाए तो इस बार पहली सभा में  चोटी+तिलक धारी के अलावा  गोल टोपी  की भीड़ को देखते हुए चुनाव के मौड़ को देखा जा सकता है ।    
  मेयर पद  और पार्षद पद के  शेष   दावेदारों की संख्या बेहद ही कम रही अर्थार्त पार्टी के प्रति उदासीनता की चेतावनी  अक्षरः दिखाई दी।सांसद  अग्रवाल  के अनुसार एक वार्ड से तीन से लेकर आठ लोगों ने दावेदारी प्रस्तुत की थी । पहले तो नगर निगम के अस्सी वार्डों में शत  प्रतिशत  उमीदवार नहीं मिले जितने मिले उनमे से आधे ही इस आयोजन में दिखाई दिए।असंतुष्टों की संख्या नगण्य ही रही ।यानि इतनी बड़ी संख्या में अनुपस्थिति यह दर्ज करती है की   अभी तक चयन प्रक्रिया के प्रति पार्टी में  असंतोष है +असहयोग है +अविश्वाश है।
         शायद  इसी कंडीशन को भांपते हुए ही  वक्ताओं  ने सभी को साथ लेकर  चलने  पर बल दिया प्रदेश अध्यक्ष डाक्टर लक्ष्मी कान्त वाजपई ने तो बागिओं को  मनाने के लिए आवश्यकता पड़ने पर उनके पाँव तक पकड़ने की सलाह दे डाली ।प्रदेश अध्यक्ष ने  छेत्र  में हासिल पार्टी की प्रतिष्टा को बनाए  रखने पर भी जोर दिया।इतना कहते ही उन्होंने मंच छोड़  दिया
      सुरेश जैन ऋतुराज के संचालन में  सांसद अग्रवाल ने  बागी उम्मीदवारों को मनाने का भरोसा देकर कार्यकर्ताओं का हौसला बढ़ाया ।
मंच पर केवल 11 महिलायें और 14 पुरुष प्रतियाशिओं का ही परिचय कराया गया।कुल मिला कर 25 प्रतियाशिओं का ही परिचय कराया गया \इसके अलावा भाजपा का वोट बैंक   जाट +गुज्जर+ जाटव +का प्रतिनिधित्व  मंच पर  कहें दिखाई  नहीं  दिया।जबकि वक्ताओं ने कम से कम 50 सीटें जीतने का दावा किया है।जाहिर है की  चुनाव नहीं आसान बस इतना समझ लीजे असंतुष्टों का दरिया है और डूब कर जाना है 

शनिवार, 9 जून 2012

मिस्टर एच आर डी सिब्बल की क़ाबलियत पर कानपूर में ITIANS ??लग गया है

मिस्टर एच आर डी सिब्बल की क़ाबलियत पर कानपूर में   आईथियन कुएश्चन मार्क??लग गया है|आई आई टी कानपूर की एकेडमिक सीनेट ने सीना ठोक कर संयुक्त प्रवेश परीक्षा के लिए मंत्रालय के निर्णय को कूड़े दान में डाल दिया है और देश के   शेष  आईआईटी को साथ आने को निमंत्रण भी दे दिया है| कपिल सिब्बल के ड्रीम प्रोजेक्ट शिक्षा के अधिकार पर हो रही छिछालेदारी अभी कम नहीं हुई की ये नया बखेड़ा खडा हो गया लगता है की काबिल वकील सिब्बल की पीठ पर बैठे विवादों के बेताल हटने का नाम ही नहीं ले रहे हैं|
कपिल सिब्बल पूरे देश में इंजीनियरिंग की एक सामान परीक्षा कराना चाहते हैं सामान सिलेबस  से होने वाले यह परीक्षा एक अच्छा प्रयोग हो सकती है इसके लिए xii कक्षा के मार्क्स भी जोड़े जाने हैं|चूँकि यह परीक्षा सी बी एस ई के माध्यम से होनी है सो आई आई टी को यह मंजूर नहीं है वैसे तो देश में ४४ स्टेट बोर्ड है सबकी अपनी मूल्यांकन+ चयन प्रक्रिया है ऐसे ही आई आई टी की भी अपनी प्रक्रिया है इसीलिए आई आई टी देश में अग्रणी है | यहाँ से क्रीम निकल कर देश और विदेश में नाम कमा रही हैं\

   कुछ सालों से आई आई टी पर सरकारी पकड़ मजबूत करने को कवायद चल रही है| संभवत इसीलिए जे ई ई में बदलाव लाया गया है |xii  की परीक्षा के 40% मार्क्स जुड़ने है दूसरी तरफ 2013 में होने वाले जे ई ई के लिए दुबारा परीक्षा को आवश्यक बताया जा रहा है यहाँ तक की सी बी एस ई की गुणवत्ता पर भी प्रश्न चिन्ह लगाए जा रहे हैं।  हाई स्कूल तक की परीक्षा में कम्पटीशन का तनाव ना हो इसके लिए इसका सरलीकरण किया गया मगर आश्चर्यजनक रूप से इंजीनियरिंग की परीक्षा में प्रतिस्पर्धा को कडा करके तनाव पैदा  करने की यह कौशिश   समझ से परे हैं

शुक्रवार, 8 जून 2012

पानी दिखना चाहिए बेशक पानी गंदे नाले का ही क्यूं न हो।


रहीम कह गए हैं की पानी जरूर रखना चाह्हिये ।मनुष्य+मोती और चून के लिए पानी  बेहद जरूरी है ।लेकिन आज कल  ग्वाले +गद्दी को चारे में मिलाने को पानी चाहिए + दुग्ध  व्यवसाई को  मिलाने को पानी  चाहिए+ त्रस्त  जनता  को गर्मी से निजात के लिए बारिश का पानी  और बेचारी भैंस को नहाने को जैसा भी हो पानी  चाहिए।अब बिज़ली बनाने वाले भी कहते हैं की पानी  चाहिए।यानि सबको पानी चाहिए
   आज कल भैंस चराने वालों को छोड़ो जनता को चराने वालों में भी पानी नहीं बचा। पानी में हाऐद्रोज़न और आक्सीजन  जरूरी है मगर पर्यावरण में हैड्रोजन HIDROGEN + सी औ  2इतनी बढ  रही है की आक्सीजन को ही खाए जा रहे है शायद इसीलिए बड़े  लोग 3500000/= के टायलेट्स  में जाकर ठन्डे पानी की  ठंडक का एहसास कर लेते हैं लेकिन  आम जन  और पशु इन्ही नालों के तटों  पर 3500000 बचा लेती है जनता  बेचारी इन्हें कोस कर ठंडी हुई जा रही है  और भैंसें जहां पानी दिखा  वहीं  घुस कर अपने गर्मी दूर  कर लेती हैं।
 पानी तो पानी ही होता है अब तैरना हो  मिलाना हो पिलाना हो या फिर चराना हो जैसा भी हो  पानी  होना ही चाहिए
शायद यही वजह है की शहर मेरठ में पानी के जोहड़+चर +तालाब+झरने कहीं दिखाई नहें देते लेकिन भैंसों को तो पीने के साथ नहाने के लिए और तैरने के लिए पानी  दिखना चाहिए अब पानी गंदे नाले का ही क्यूं न हो।इसीलिए सूरजकुंड के पुल के  नीचे बहते गंदे नाले मेंगर्मी का एहसास कम कर रहे हैं ये भैंसें   [जमोस सबलोक]                         फोटो         सूरजकुंड के नाले  का द्रश्य 

गुरुवार, 7 जून 2012

डाडा लाल कृषण आडवानी + पुराने धुरंधर बलराज मधौक की मुलाक़ात

डाडा लाल कृषण आडवानी ने  पुराने धुरंधर बलराज मधौक के घर जा कर मुलाक़ात की और ठहरे पानी में हलचल मचा दी है| लगता है हाशिये पर लाये गए भाजपाई एकजुट होने लग गए हैं|
आडवानी को आज कल नरेन्द्र मोदी और नितिन गडकरी की जोड़ी ने  बुजुर्ग  बना कर अलग थलग करने की सोच रखी है |आये दिन कोई न कोई विवाद सर उठाता रहता है |पहले जिन्नाह पर टिप्पणी के लिए उन्हें आर एस एस ने अपमानित किया और अलग थलग कर दिया अब क्योंकि आर एस एस +भाजपा को आडवानी में कोई 
करिश्मा नज़र नहीं आ रहा इसलिए गुजरात से नरेन्द्र मोदी को आयात करने की यौजना है |तभी तो संजय जोशी की बलि स्वीकाए कर  ली  गई है\
इस नए बदलाव  से आडवानी और उनकी दिल्ली की टीम का असहज होना स्वाभाविक ही है| मोदी के विरुद्ध और संजय जोशी के समर्थन में पोस्टर छपने स्वाभाविक हैं\
बलराज मधौक एक ज़माने में जनसंघ में कदावर नेता थे मगर कश्मीर में एक कालीन के मामले को लेकर उन्हें बाहर का रास्ता दिखाया गया था इनके हटने  अटल बिहारी वाजपई  को मौका मिल गया उन्हें अडवानी  सरीखे जनरल  का साथ मिल गया  बाद जनता पार्टी और
फिर भाजपा बनाई गई\ 
शनेह  शनेह  यह पार्टी प्रमोद महाजन सरीखे नेताओं के चंगुल में आने लग गई ।पार्टी विद डिफरेंस केवल नारा बन कर रह गया यहाँ तक की परम्परागत वोट बैंक को भी अनदेखा किया जाने लगा ।
   बलराज  मधौक ने जनसंघ को नहीं छोड़ा ।इस पर उन्हें सत्ता के नज़दीकी होने के आरोप भी लगाए गए मगर इस सबके बावजूद  बलराज मधौक ने जनसंघ को नहीं छोड़ा है  आज भी मधौक जनसंघ के सर्वोच्च नेता हैं अभी भी जनसंघी विचारधारा वाले हिन्दुओं में उनकी अच्छी खासी पकड़ है |
पंजाबी वोट बैंक विशेषकर देश विभाजन के पश्चात माइग्रेट होकर आये पंजाबिओं को दिशा देने में उनकी भूमिका महत्वपूर्ण हो सकती है|
बेशक आडवानी का यह कहना है की इस वर्ष संसद में इस वरिष्ट नेता से मुलाकात नहीं हुई थी सो उनके[मधौक] के घर मिलने चले आये|लेकिन इस मुलाकात को एक नए समीकरण के उदय के रूप में भी देखा जा सकता है\

    दिग्गजों की इस मुलाक़ात पर बहस के तीतर लड़ाए जाने लाजमी है सो लड़ाए जा रहे हैं\
एक तरफ जहाँ इसे  होने वाले राष्ट्रपति के चुनावों के परिपेक्ष्य में देखा जा सकता है तो दूसरी और भाजपा पर अपनी पकड़ मजबूत रखने को यह लाल क्रशनी पेंतरे बाज़ी हो सकती है । 
    दिल्ली  की आडवानी टीम किसी  भी  सूरत में मुम्बैया राजनीति को आगे नहीं  आने देगी इसके लिए उनके पास केवल  और केवल आडवानी का कार्ड ही है इसीलिए इस कार्ड को जीवित रखा  जाना भी जरूरी है।शायद इसलिए पहले ब्लॉग के माध्यम से पार्टी पर छींटाकशी फिर  एक के हंगल पर टिप्पणी से अपने इरादे स्पष्ट किये जा चुके हैं\

शनिवार, 2 जून 2012

पेट्रोल के दामो में भारी कमी

पेट्रोल के दामो में भारी कमी
७.५३ बढाकर २.०२ कम कर दिए गए अब आप इसे ऊंट के मुह में जीरा कहें या राजनीतिक शतारंज़ लेकिन आज रात से कमी तो हो ही गई |
अब ये मत कहना कि विपक्ष के भारत बंद का असर हुआ है क्योंकि बंद के दो  Days   बाद यह कम हुआ है|
 राजेश खन्ना कि फिल्म को दोहरा दिया गया है ७.५३ बड़ा कर २.०२ कम करके ५.५१ का फ़ायदा हो ही गया |
 अर्थार्त शब् में मयकशी कर ली सुबह को तौबा करली रिंद के रिंद रहे जन्नत भी हाथ से न गई इसीलिए भैया क्रेडिट तो वोहे लेगा जिसके हाथ में सत्ता है| हाँ हाँ भैया जी सरकार कि कुछ किर किरी तो हुई है इसीलिए आप यह जरूर कह सकते हैं कि पेट्रोल कि दलाली में हाथ जले ही जले |लेकिन ये जले भी कया जले क्योंकि ये तो आप भी मानते हैं कि नंग बड़े परमेश्वR 

शुक्रवार, 25 मई 2012

'पेट्रोलियम कम्पनिओं का खर्चा छूता आस मान || इसीलिए भैया रोल बैक बैक की बढ रही है मांग

पेट्रोल की धार से जन जीवन हुआ परेशान|
रोल बैक रोल बैक रोल बैक की बढ रहीमांग \\
कीमतों की बढोत्तरी में अब नहीं है कोई शान |
'पेट्रोलियम कम्पनिओं का खर्चा छूता आस मान ||
इसीलिए भैया रोल बैक बैक की बढ रही है मांग 
सरकारी खर्चों से अब रहा नहीं कोई अनजान \
कंटीजेंसी के नाम 'पर लुटाना नहीं रहेगा आसान ||
जनता के वास्ते अब  खुद  ही बनना निगेहबान |
इसीलिए रोल बैक  बैक की बढ रही रोजाना  मांग \|
पेट्रोलियम मंत्री लौट आये है प्रवास से थके होंगे |
सो पुनर्विचार को मांग लिया है कुछ दिन का दान ||
रुपये या पेट्रोलियम का बाज़ार क्या लेगा नया मौड़ |
 इसी ग्राफ पर सरकार के लगे रहेंगे नाक और कान ||
  रेड्डी जी रोल बैक बैक की नित बढ रही है मांग 
 विपक्षी  दलों ने भी बजा दिया है विरोध का बिगुल |
 ३१ मई को  भारत बंद का कर दिया है आह्वाहन 
 इस इंतज़ार में पता चलेगा  इनमे है कितनी जान ||
सो रोल बैक बैक की बढ रही है रोजाना मांग 

गुरुवार, 24 मई 2012

सरकार की नीतिओं की तो पहले से ही आलोचना की जा रहीं हैं अब नियत पर भी सवाल लग गए हैं

अच्छा खासा बजट  सत्र बीत गया  सत्ता की तीसरी  वर्षगाँठ भी हंसी खुशी मना ली  लगता है इसी दंभ  में अपने वजूद को टटोलने के लिए  यूं पी ऐ की सरकार ने  सड़क पर पड़ी हुई पेट्रोल  से तरबदर  कुल्हाड़ी पर ही अपना पावँ दे मारा है  जाहिर है  कि  जख्म  और उसका दर्द  कुछ दिन तो सताएगा ही  |कुल्हाड़ी भी छिटक कर  जनता में जा पडी है जिससे सभी को  साड़े सात रुपये का घाव  आया है |सभी तरफ हो हल्ला हो रहा है विपक्षी पार्टिओं के अलावा  सत्ता के घटक और बाहरी समर्थक सभी वोही कुल्हाड़ी लेकर सरकार के पीछे पड़ गए हैं |पुतले फूके जा रहे हैं+प्रदर्शन हो रहे हैं +ब्यान बाज़ी जारी है+छुटभैय्ये भी सीने को चौड़ा करने में लगे हैं |
   सरकार अपने  मूर्खता पूर्ण कदम के लिए पेट्रोलियम कम्पनिओं को दोषी बताने लगी  है कम्पनिओं ने भी सरकार के जख्मों पर मलहम लगते हुए रोजाना ५० करोड़ रुपयों के घाटे का रोना शुरू कर दिया है |
सरकारी दावं है कि रुपये के  अवमूलयन से डॉलर महँगा हुआ है इसीलिए कच्चे तेल का आयात  महँगा हो रहा है |  यह दावा मृगत्रिशना मृग त्तृष्णा  ही लग रहा है।पहले   बच्चो को  बहलाने  को कहा जाता था की      अरे तेरा  कान   कौवा  ले गया और बच्चा    कौवा ही   ढूढता रहता था।अब   मीडिया  के  सशक्तिकरण से  सत्य पेट्रोल की आग से भी तेज  फैलता   है इसीलिए आजकल कौवे  के 'पीछे भागने के बजाये बहकाने वाली सरकार को ही   घेरने की तैय्यारी है। दबाब बनाया जा रहा है ।
   बहलाने से जब काम नहीं  चला तो अब सहलाने की तैय्यारी है और सरकार अपने  जख्म  के दर्द  को भूल कर जनता को सहलाने लग गई है ।सुना गया है की यूं पी ऐ ने अपनी पार्टी की प्रदेशों में चल रही सरकारों को टैक्स कम   करने को फरमान जारी  कर   दिया है। केरल+उत्तराखंड ने पहल कर भी दी है इसके अलावा एक  और      छोटे   गोवा  में भी  वैट  कम   किया जा चूका है । ये    सभी छोटे राज्य  हैं सो ऊण्टः  के मूह में जीरा साबित होंगे।
  पेट्रोलियम मंत्री श्री रेड्डी को विदेश यात्रा से वापस बुला लिया गया है और आगामी माह में कुछ राहत  देने को मांड वलि  चल रही है ।
सरकार    की नीतिओं की तो पहले से ही    आलोचना  की जा रहीं हैं मगर अब  नियत पर भी सवाल  उठने  लग गए हैं ।[1] रुपये के    अवमूलयन    को    भारतीय  रिसर्व  बैंक  [आर बीआई] की  उदासीनता  [2]एक मुश्त  साड़े  सात रुपयों की वृधि [3] थोड़ी  राहत का लाली पोप एक मंत्री  महोदय ने तो नमक को  ही मलहम मान   लिया और कह बैठे  है की आम आदमी की जरूरत तो केवल रोटी+कपड़ा+मकान ही है  पेट्रोल से आम आदमी को कया लेना देना 
इन सब उपायों से  राजेश  खन्ना  की फिल्म की  याद आ गई ।इस  फिल्म का   नायक  खलनायकों को फ़ायदा पहुंचाने के लिए पहले    कीमतें  आसमान  पर पहुंचा देता है फिर जनता की फेवर लेने के लिए बड़ी हुई कीमतों को आधा कम कर देता है ।दोनों पक्ष  खुश और  नायक की    जेब   हो जाती  है गरम 
      लाख  टके  का सवाल उठता   है की इस पेट्रो के खेल के पीछे  का खलनायक कौन है???आप भी   अपने  आस पास    देखिये  और में भी आँखों में दाल लेता हूँ  भीम सेनी सुरमा      [जमोस सबलोक] 

पेट्रोलियम कम्पनिओं ने दिखा दी पेट्रोल की धार | 10 प्रतिशत कीमत बड़ा कर मचवा दी हाहाकार||

हमारा दिवाला तो सरकारी दिवाली 
पेट्रोलियम कम्पनिओं ने दिखा दी पेट्रोल की धार |
10 प्रतिशत कीमत बड़ा कर मचवा दी हाहाकार||
आम आदमी को पेट्रोल से नहीं है कोई सरोकार |
रोटी कपड़ा और मकान मिले तो समझो उपकार ||
बड़े दामों पर मनमोहनी सरकार ने खींच लिए हाथ |
विपक्ष ने भी भारत बंद को ले लिया है सबको साथ||
कंपनी कहे ५० करोड़ का रोजाना हो रहा नुक्सान |
विपक्ष कहे ४१%टैक्स से खजाने की बढ रही है शान ||
केंद्र कहे राज्यों से घटाओ लोकल टैक्सों की मार |
गैर कांग्रेसी राज्य कहें केंद्र का है नाजायज़ इन्साफ ||
कस्टम,एक्स्साईस , आयकर सेस,वैट के चक्कर में
सोने की चिड़िया सा सोणा देश बन गया घनचक्कर |
काले पेट्रोल की दलाली में सभी नेता खा रहे शक्कर ||
रुपये की कीमत फिसल रही पेट्रो भी छूए आसमान |
इस गन्दी राजनीति से निकलना रहा नहीं आसान |

मंगलवार, 22 मई 2012

सहयोगिओं के ऐसी मदद मिली यूं पी ऐ सरकार डिरेल होते होते बच गई

यूं पी ऐ के दूसरी पारी के तीन साल पूरे हो जाने पर भी ट्रेन दुर्घटना हो गई|
जांच होगी +मुआवजा बटेंगा +चर्चा संसद में नहीं मीडिया में खूब होगी 
लेकिन इस पर अफ़सोस जताने के अलावा और कुछ भी नहीं हो सकता 
क्योंकि लोक पाल+सिविल एविएशन+ब्लैकमणी+महंगाई जैसे लोकप्रिय 
जंक्शनों पर अनेक विपक्षी रूकावटे होने पर भी सरकार सरपट ही रही 
सहयोगिओं के ऐसी मदद मिली यूं पी ऐ सरकार डिरेल होते होते बच गई 
अब आप ही बताइये कि मामला दुःख का है या जश्न मनाने का मामला है

लेकिन संसद मेतो बिना कुछ लिखे ही कागज़ सफ़ेद ही पेश हो गया


सफ़ेद कागज़ पर काली स्याही से हम भी तो लिख लेते हैं कभी कभी 
लेकिन संसद मेतो बिना कुछ लिखे ही कागज़ सफ़ेद ही पेश हो गया 
काले धन के पीछे काले लोगों का देखो अता या पता कुछ भी नहीं
कितना काला धन है बाहर कितना अन्दर है काला कोई इल्म नहीं
काला पैसा काला पैसा करते करते देखो धन काला दिखा ना कोई
भगवा धारी राम देव सफ़ेद टोपी अन्ना का दिल मांगे काला सभी
काला काला करते करते  संसद  में आज  काला दिखा नहीं कोई 
वित्  मंत्री संसद में आये थे पहन के काला बंद गले का बस कोट 
श्वेत पत्र लोक सभा में पेश करके सुनिश्चित हुए  मिस्टर ब्लैक कोट 
तभी   बेचारे वित्  मंत्री  भूल गए राज्य सभा में हैं  बड़े सांसदों  केवोट 

रविवार, 20 मई 2012

फिलवक्त क्रिकेट की नाजायज़ पैदाईश ही सबपे भारी है

बचपन था रईस फाक्तायें हमने भी तब बहुत उड़ाई हैं|
लेकिन अब ये आलम काले कव्वे  तक के दीदार नहीं ||
चला लिया करते थे तब पानी में कागज़ के भी जहाज़ |
मगर अब पानी और कागज़ दोनों के लिए जंग जारी है|| 
बैट उठा कर तौडा किया करते थे कांच और खिड़कियाँ कभी| 
फिलवक्त क्रिकेट की नाजायज़ पैदाईश ही सबपे भारी है ||
आई पी एल कहते जिसे उसमे हैं बेशक खूबसूरत रंग कई \
किस्मत कि मार ऐसी ये भी सभी बदसूरत हुए जाते हैं||
डॉलर है औरों कि तरह हमको भी चहेता आज भी बहुत|
लेकिन रब्बा क्या करें रुपये पर झल्ले को भी आंसू आते हैं||

आई पी एल I P L Cricket कारणे भ्रष्ट भये लोग|

क्रिकेट को लेकर मचा शोर चहुँ और ,|
खेलपर   रहा अब  नहीं कोई   जोर ||
आई पी एल  कारणे भ्रष्ट भये  लोग|
मैच फिक्सिंग का फैला भयंकर  रोग||
सैक्स  ब्लैक मनी का शोर  है चुहूँ और|
आई पी एल बंदी  को लगा रहे सभी जोर||
 सांसद बैठे धरने पर स्टेडियम के बाहर |
जब संसद में चला नहीं किसी का जोर ||
भद्र  पुरुषों  के क्रिकेट की उड़ रही बेल्स |
तब भी चालू है ना जाने किस किस का खेल ||

सोमवार, 14 मई 2012

63 साल का कार्टून 60 साल की संसद को कार्टून बना सकता है

एक कार्टून के छपने से भौंचके है सब लोग |
किताबों से  हटाने को लगा रहे पूरा  जोर \\
प्रणव मुखर्जी ने  संसद  में  कहा  सीना तान |
सभी किताबों से  तुरंत  हठाओ ये  नया रोग\|  
टेबल थप थपा कर समर्थन मिला भरपूर|
सारे विवाद सारे झगड़े मुड़ गए दूसरी और\|
मीडिया ने अपनी आदत  पुराणी दोहराई |
मीडिया पर अटैक की दे रहे है दुहाई ||
इस प्रकरण  से अब हमने यह  जान लिया |
६३ साल पुराना  एक  ब्लेक  &व्हाईट  कार्टून 
  आज   भी  सांसदों को कार्टून बना सकता   है