मंगलवार, 9 जून 2009

देश विभाजनपीडितों केआंसू पोछनेकोरूमालआयातकराओ

एक कांग्रेसी
ओये झाल्लेया मुबारकां हसाडे सोणे ते मनमोहने पी एम् ने संसद में राष्ट्रपति के पश्चात् ये एलान कर दिया है की
[१]अब आतंकवाद का मुकाबला किया जाएगा
[ २]आर्थिक विकास की गंगा बहेगी
[३]विपक्ष से ताल मेल होगा
और प्रत्येक नागरिक के आंसू पौंछ कर गौरव पूर्ण जीवन व्यतीत करने के अवसर प्रदान किए जायेंगेओये हुनतो हो जाणी है बल्ले बल्ले
झल्ला
ओ भोले बादशाहों ६२ सालों से १९४७ के विभाजन पीड़ित कम्पेंसेसन क्लेम के लिए आंसू बहा रहे हैं और अन्दर ही अन्दर आतम्ग्लानि से गलते जा रहे हैं हो सके तो उनके आंसू भी पौछ्नेके लिए एक अदद रूमाल ही आयात करवा लो

1 टिप्पणी:

  1. टिपण्णी में आपकी सुंदर पंक्तियों का जवाब नहीं!
    बहुत बढ़िया! लिखते रहिये!

    उत्तर देंहटाएं