शनिवार, 18 फ़रवरी 2012

भ्रस्ताचार मिटा देंगे+बिजली देंगे+रोज़गार देंगे +आरक्षण देंगे +बैंको के कर्जे माफ़ कर देंगे+मंदिर बनायेंगे++++++

भारतीय राजनीति में मौजूदा  एक्सपर्ट्स की  राजीनीतिक कलाबाजियां देख कर आज सुबह से ही  रह रह कर फ़िल्मी गीत याद आ रहे हैं [१]मन्ना डे का गाया और प्राण पर फिल्माया गया यह गीत तो पीछा ही नहीं छोड़ रहा।
  कसमे वादे 'प्यार वफा सब वादे हैं वादों क्या कोई किसी का नहीं ये झूठे नाते हैं नातों का क्या?[२]किशोर कुमार की आवाज़ और राजेश खन्ना की छवि वाले इस गीत के बोल तो  लगभग सभी पर फिट बैठते दिखाई दे रहे हैं।
  वादा तेरा वादा वादे पे तेरे मारा गया बंदा में सीधा साधा [३] अमिताभ की यह शिकायत की जुम्मा चुम्मा दे दे चुम्मा पिछले जुम्मे का वादा था 
   इनगीतो के अलावा भी अनेकों शिकायती वादे गीत होंगे इस से में इंकार नहीं कर सकता क्योंकि में इस मामले में स्वयम को एन्साईक्लोपिदिया नहीं मानता।अब आप आँखें तरेर कर यह जरूर पूछना चाहोगे की इन पुराने गीतों का आज की नई नवेली राजनीति से क्या वास्ता क्या मेल क्या विरोध क्या वैर ।लेकिन अगर आप ध्यान लगा कर [बाबा रामदेव वाला ध्यान नहीं]  राजनितिक अंतर मन से देखे तो ज्ञान चक्षु खोले बिना ही देख लेंगे की आज सभी छौटे बड़े + मंझे हुए या नौसिखिया +खोटे खरे+ बूड़े जवान +नए पुराने सभी खांटी खुर्राट नेताओं की मानिंद छाती या सीना ठोक कर तख्त ताज बदलने को रोजाना वादों की झाड़ी खड़े करते जा रहे हैं ।इन झाड़ियों में से वोटों के फल मिले या नहीं मगर विपक्षी तो अपनी धोती बचाता फिरता रहता है।और इस कवायद में दूसरे की राह में एक उससे भी बड़ा वादा डाल देता है।जसके फलस्वरूप चाहूं और फलों के बागीचे तो दूर रहे वायदों की कष्टकारीझाड़ियाँ ही नज़र आ रही  है।इन में से कुछ वायदे निम्न हैं
   भ्रस्ताचार मिटा देंगे+बिजली देंगे+रोज़गार देंगे +आरक्षण देंगे +बैंको के कर्जे माफ़ कर देंगे+मंदिर बनायेंगे++++++अब भैया जी भ्रष्ट मंत्रियों के रहते भ्रस्ताचार कैसे मिटेगा+बिजली उत्पादन  केंद्र है नहीं तो बिज़ली कहाँ से दोगे+सरकारी दफ्तर बंद करते जा रहे हो विदेशी कम्पनियों पर रोक लगा रहे हो तो नौकरिया कहाँ से दे दोगे+संविधान बदलने की क्षमता नहीं है धर्म आधारित  आरक्षण कैसे दे दोगे+विश्व बैंक को नाराज़ करके कर्जे कैसे माफ़ करदोगे और भय्या जी अपनी पांच साल की सरकार में मंदिर की बात नहीं कर पाए अब कैसे मंदिर बना पाओगे।
    क्या कहा जादू की  छड़ी लाओगे अबे कहाँ से लाओगे ?
  
     
  

2 टिप्‍पणियां:

  1. ...फाड़ देंगे जब जीतेंगे...........आपकी धोती को रूमाल बना दंगे........जय हो झल्‍ले राजा

    उत्तर देंहटाएं